रविवार, 22 जून 2008

मुसाफिर हूं यारों...

आत्मकथ्य: संजय द्विवेदी


काले अक्षरों से कागज रंगते, टेबल पर झुके हुए कब चौदह कैलेंडर बीते पता ही नहीं चला...इस बीच कलम थामकर कागज पर खेलने वाली उंगलियां की-बोर्ड पर थिरकने लगीं। प्रदेश और शहर बदलते गए, अखबार भी बदलते गए, अगर कुछ नहीं बदला तो वह थी इस कलम के साथ जुड़ी एक जिम्मेदारी। जिसकी धुन में जिंदगी की सबसे अहम चीज फुरसत छिन गई और खबरों के बीच ही बाकी की जिंदगी सोते, जागते, उठते, बैठते, खाते, पीते गुजरती है...एक शायर के इस शेर की तरह-
'अब तो ये हालत है कि जिंदगी के रात-दिन,
सुबह मिलते हैं मुझे अखबार में लिपटे हुए

बस्ती : ये जो मेरी बस्ती है...
उत्तर प्रदेश के एक बहुत पिछड़े जिले बस्ती का जिक्र अक्सर बाढ़ या सूखे के समय खबरों में आता है। लगभग उद्योग शून्य और मुंबई, दिल्ली या कोलकाता में मजदूरी कर जीवनयापन कर रहे लोगों के द्वारा भेजे जाने वाले 'मनीआर्डर इकानामी पर यह पूरा का पूरा इलाका जिंदा है। बस्ती शहर से लगकर बहती हुई कुआनो नदी वैसे तो देखने में बहुत ही निर्मल और सहिष्णु लगती है, पर बाढ़ के दिनों में इसकी विकरालता न जाने कितने गांव, खेत और मवेशियों को अपनी लपेट में लेती है, कहा नहीं जा सकता। बस्ती जहां खत्म होता है, वहीं से अयोध्या शुरू होता है। अयोध्या और बस्ती के बीच बहने वाली सरयू नदी लगभग वही करिश्मा करती है, जो कुआनो। इसके लंबे पाट पर कितने खेत, कितने गांव और कितने मवेशी हर साल बह जाते हैं जिन्हें देखते हुए आंखें पथरा सी गई हैं। हिंदी के वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यकार स्वर्गीय सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का कविता संग्रह 'कुआनो नदी इन्हीं विद्रूपताओं के आसपास घूमता है। सर्वेश्वर इस इलाके की गरीबी, बदहाली और दैनंदिन जीवन के संघर्ष से जूझती हुई जनता के आत्मविश्वास को रेखांकित करना नहीं भूलते। वे एक कविता में लिखते हैं-
गांव के मेले में
पनवाड़ी की दुकान का शीशा
जिस पर
इतनी धूल जम गई है
कि अब कोई अक्स दिखाई नहीं देता।

सर्वेश्वर की यह कविता इस पहचानविहीन इलाके को बहुत अच्छी तरह से अभिव्यक्त करती है। यह वही शहर है, जहां मैं पैदा तो नहीं हुआ पर मेरा बचपन इसी शहर में बीता। इस शहर ने मुझे चीजों को देखने का नजरिया, लोगों को समझने की दृष्टि और वह पहचान दी, जिसे लेकर मैं कहीं भी जा सकता था और अपनी अलग 'बस्ती बसा सकता था। बस्ती मेरी आंखों के सामने जैसा भी रहा हो, लेकिन आजादी के बहुत पहले जब भारतेंदु हरिश्चंद्र एक बार बस्ती आए तो उन्होंने बस्ती को देखकर कहा- 'बस्ती को बस्ती कहौं, तो काको कहौं उजाड़।

आज का बस्ती जाहिर है उस तरह का नहीं है। एक लंबी सी सड़क और उसके आसपास ढेर सारी सड़कें उग आई हैं। कई बड़े भवन भी दिखते हैं। कुछ चमकीले शोरूम भी। बस्ती बदलती दुनिया के साथ बदलने की सचेतन कोशिश कर रहा है। बस्ती एक ऐसी जगह है, जो प्रथमदृष्टया किसी भी तरह से आकर्षण का केंद्र नहीं है। कुआनो नदी भी बरसात के मौसम को छोड़कर बहुत दयनीय दिखती है, लेकिन साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में यहां के साहित्यकारों, पत्रकारों ने जो जगह बनाई है उससे बस्ती मुग्ध होते रहती है। हिंदी के समालोचना सम्राट आचार्य रामचंद्र शुक्ल की जन्मभूमि अगौना इसी जिले में है। यह एक ऐसा साहित्यिक तीर्थ है, जिस पर बार-बार सिर झुकाने का मन होता है।

बस्ती शहर से बहुत थोड़ी दूर पर ही मगहर नाम की वह जगह है, जहां संत कबीर ने अपनी देह त्यागी थी। मगहर को कबीर ने क्यों चुना? यह वजह लगभग सब जानते हैं कि काशी में मरने से मोक्ष मिलता है। कबीर ने इस अंधश्रध्दा को तोड़ने के लिए मगहर का चयन किया था। कबीर का कहना था कि- 'यदि मैं काशी में मरता हूं और मुझे मोक्ष मिल जाता है, तो इसमें राम को क्या श्रेय। इसीलिए कबीर अपनी मृत्यु के लिए मगहर को चुनते हैं। हमें पता है कबीर की मृत्यु के बाद मगहर में उनके पार्थिव शरीर को लेकर एक अलग तरह का संघर्ष छिड़ गया। मुसलमान उन्हें दफनाना चाहते थे, तो हिंदू उनका हिंदू रीति से अंतिम क्रियाकर्म करना चाहते थे। इस संघर्ष में जब लोग कबीर के शव के पास जाते हैं, तो वहां उनका शव नहीं होता, कुछ फूल पड़े होते हैं। हिंदू-मुसलमान इन फूलों को बांट लेते हैं और अपने-अपने धर्म के रीति-रिवाज के अनुसार इन फूलों का ही अंतिम संस्कार कर देते हैं। वहीं पर मंदिर और मस्जिद अगल-बगल एक साथ बनाए जाते हैं। एकता का यह स्मारक आज भी हमें प्रेरणा देता है। यह एक संयोग ही है कि छत्तीसगढ़ के लोक गायक भारती बंधु मगहर में प्रतिवर्ष होने वाले मगहर महोत्सव में कबीर का गान करके लौटे हैं। बस्ती शहर में भी उन्हें सुना गया। कबीर इस तरह से आज भी विविध संस्कृतियों और प्रदेशों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान का केंद्र बने हुए हैं।

फिर बाद के दौर में सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, डा. लक्ष्मीनारायण लाल, लक्ष्मीकांत वर्मा, डा. वागीश शुक्ल, डा. माहेश्वर तिवारी, श्याम तिवारी, अष्टभुजा शुक्ल जैसे कई ऐसे नाम हैं, जिन्होंने बस्ती को एक अलग पहचान दी है। यह अलग बात है कि रोजी-रोटी की तलाश में इनमें से ज्यादातर तो बड़े शहरों में ही अपना आशियाना बनाने के लिए चले गए और वहां उन्हें जो पहचान मिली उसने बस्ती को गौरव तो दिया, किंतु बस्ती का बस्ती ही रहा। सिर्फ और सिर्फ अष्टभुजा शुक्ल आज की पीढ़ी में एक ऐसे कवि हैं, जो आज भी सुदूर दीक्षापार नामक गांव में रहकर साहित्य साधना में लगे हैं।

इसी शहर में बारहवीं तक की पढ़ाई के बाद मुझे भी उच्च शिक्षा के लिए लखनऊ जाना पड़ा। यह एक संयोग ही है कि इस इलाके के ज्यादातर लोग उच्च शिक्षा के लिए इलाहाबाद को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हैं। बचे-खुचे बनारस चले जाते हैं, पर जाने क्या हुआ कि मेरा प्रवेश लखनऊ विश्वविद्यालय में करवाया गया। शायद इसका कारण यह भी रहा हो कि मेरे पिता लखनऊ विश्वविद्यालय के ही छात्र थे। इस नाते उस विश्वविद्यालय से उनका राग थोड़ा गहरा रहा होगा। लखनऊ में गुजरे तीन साल छात्र आंदोलनों में मेरी अति सक्रियता के चलते लगभग उल्लेखनीय नहीं हैं। कालेज की पढ़ाई से लगभग रिश्ता विद्यार्थी का कम और परीक्षार्थी का ही ज्यादा रहा। जैसे-तैसे बीए की डिग्री तो मिल गई, लेकिन कैरियर को लेकर चिंताएं शुरू हो गईं। इस बीच कुछ समय के लिए बनारस भी रहना हुआ, और यहां मन में कहीं यह इच्छा भी रही कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय से पत्रकारिता की पढ़ाई की जाए।

बनारस : आत्मा में उतरे राग-रंग
काशी में रहते हुए ऐसा बनारसी रंग चढ़ा, जो सिर चढ़कर बोलता था। छात्र आंदोलनों से जुड़ा होने के नाते कई छात्र नेता और नेता अपने मित्रों की सूची में थे। यहां उस समय बीएचयू के अध्यक्ष रहे देवानंद सिंह और महामंत्री सिध्दार्थ शेखर सिंह से लेकर प्रदीप दुबे, जेपीएस राठौर, राजकुमार चौबे, दीपक अग्रवाल और मनीष खेमका जैसे न जाने कितने दोस्त बन गए। इनमें मैं अपने उस समय संरक्षक रहे डा. सुरेश अवस्थी को नहीं भूल सकता। वे बीएचयू में राजनीति विज्ञान के प्राध्यापक थे। हम उनके सामने बहुत बच्चे थे, लेकिन उन्होंने हमें जिस तरह अपना प्यार और संरक्षण दिया, उसे भुलाना मुश्किल है। वे प्राय: अपने चौक स्थित घर पर हमें बुलाते, सिर्फ बुलाते ही नहीं इतना खिलाते कि उनकी बातों का रस और बढ़ जाता। उनकी धर्मपत्नी इतनी सहज और स्नेहिल थीं कि सुरेशजी का घर हमें अपना सा लगने लगा। अब सुरेश जी इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी बातें, बनारस को लेकर उनका राग आज भी याद आता है। वे सही मायने में बनारस को जीने वाले व्यक्ति थे। बनारस उनकी आत्मा में उतर गया था। लगातार सिगरेट पीते हुए, बनारस और बनारस वालों की बातें बताते डा. अवस्थी एक ऐसे कथावाचक में तब्दील हो जाते, जिसको सुनना और उन बातों से सम्मोहित हो जाना बहुत आसान था। इसी दौरान मेरे साथ अजीत कुमार और राजकुमार से जो रिश्ते बने, वो आज तक जिंदा हैं।

बनारस की अपनी एक मस्ती है। शहर के किनारे बहती हुई गंगा नदी आमंत्रण सी देती है और उसके आसपास बहने वाली हवाएं एक अजीब सा संतोष भी देती हैं। जीवन और मृत्यु दोनों को बहुत करीब से देखने वाला यह शहर वास्तव में भोलेबाबा की नगरी क्यों कहा जाता है यह अहसास यहां रहकर ही हो सकता है। बनारस आप में धीरे-धीरे उतरता है, ठीक भांग की गोली की तरह। बनारस के अस्सी इलाके में चाय की दुकानों पर अनंत बहसों का आकाश है, जहां अमेरिका के चुनाव से लेकर वीपी सिंह के आरक्षण तक पर चिंताएं पसरी रहती थीं। बहसों का स्तर भी इतना उच्च कि ऐसा लगता है कि यह चर्चाएं अभी मारपीट में न बदल जाएं। बनारस आपको अपने प्रति लापरवाह भी बनाता है। यह बहुत बदलने के बाद भी आज भी अपनी एक खास बोली और खनक के साथ जीता हुआ शहर है।
इस शहर ने मुझे ढेर सारे दोस्त तो दिए ही, चीजों को एक अलग और विलक्षण दृष्टि से विश्लेषित करने का साहस भी दिया। उत्तर प्रदेश एक ऐसा राज्य है, जहां वर्षभर प्रवेश और वर्षभर परीक्षाएं होती हैं। जिसका श्रेय वहां की छात्र राजनीति को ही ज्यादा है। बड़ी मुश्किल से अभी कुछ विश्वविद्यालयों के सत्र नियमित हुए हैं, वरना हालात तो यह थे कि कुछ विश्वविद्यालयों में सत्र चार वर्ष तक पीछे चल रहे थे। ऐसे हालात में मैंने बीएचयू के साथ ही भोपाल में खुले माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के लिए भी आवेदन कर दिया। बीएचयू से पहले माखनलाल का प्रवेश परीक्षा का परिणाम आ गया और इस तरह मैं भोपाल चला आया। जब बीएचयू के प्रवेश परीक्षा के परिणाम आए तब तक माखनलाल का सत्र तीन माह आगे निकल चुका था। यहां पड़े रहना एक विवशता भी थी और जरूरत भी।

भोपाल : कलम लियो जहां हाथ
जब मैं पहली बार भोपाल स्टेशन उतरा, तो मुझे लेने के लिए मेरे सीनियर रहे और पत्रकार ऋतेंद्र माथुर आए थे। उनकी कृपा से मुझे भोपाल में किसी तरह का कोई कष्ट नहीं हुआ। वे माखनलाल के छात्र रहे, इन दिनों इंडिया टुडे में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार श्यामलाल यादव के सहपाठी थे। श्यामलाल यादव ने ही मेरी मदद के लिए ऋतेंद्र को कहा था। ऋतेंद्र से आरंभिक दिनों में जो मदद और प्यार मिला, उसने मुझे यह लगने ही नहीं दिया कि मैं किसी दूसरे प्रदेश में हूं। इसके बाद ऋतेंद्र ने ही मेरी मुलाकात मेरे अध्यापक डा. श्रीकांत सिंह से करवाई। डा. श्रीकांत सिंह से मिलने के बाद तो मेरी दुनिया ही बदल गई। वे बेहद अनुशासनप्रिय होने के साथ-साथ इतने आत्मीय हैं कि आपकी जिंदगी में उनकी जगह खुद-ब-खुद बनती चली जाती है। डा. श्रीकांत सिंह और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती गीता सिंह ने मुझे जिस तरह से अपना स्नेह दिया, उससे मैं यह भी कह सकता हूं कि मैं घर को भूल गया। वे मेरी जिंदगी में एक ऐसे शख्स हैं, जिनकी छाया के बिना मैं कुछ भी नहीं। उनकी डांट-फटकार और उससे ज्यादा मिले प्यार ने मुझे गढ़ने और एक रास्ता पकड़ने में बहुत मदद की। मेरे जीवन की अराजकताएं धीरे-धीरे खत्म होने लगीं।

बहुत सामान्य क्षमता का छात्र होने के बावजूद मैंने दैनिक भास्कर, भोपाल की नौकरी करते हुए न सिर्फ बीजे की परीक्षा में सर्वाधिक अंक प्राप्त किए, बल्कि मुझे विश्वविद्यालय की ओर से मा.गो. वैद्य स्मृति रजत पदक से सम्मानित भी किया गया। विश्वविद्यालय के तत्कालीन महानिदेशक वरिष्ठ पत्रकार राधेश्याम शर्मा, मेरे विभागाध्यक्ष प्रोफेसर कमल दीक्षित, मेरे संपादक महेश श्रीवास्तव, शिव अनुराग पटेरिया, स्वदेश के प्रधान संपादक राजेंद्र शर्मा, स्वदेश के तत्कालीन संपादक हरिमोहन शर्मा, नई दुनिया में उस समय कार्यरत रहे विवेक मृदुल और साधना सिंह का जो स्नेह और संरक्षण मुझे मिला उसने मेरे व्यक्तित्व के विकास में बहुत मदद की। दैनिक नई दुनिया, भोपाल में मुझे छात्र जीवन में छपने का जितना ज्यादा अवसर मिला, आज भी मैं उन दिनों को याद कर रोमांचित हो जाता हूं। भास्कर की नौकरी के दौरान ही एक दिन डा. ओम नागपाल से मुलाकात हुई। उनका व्यक्तित्व इतना बड़ा था कि उनके सामने जाते समय भी घबराहट होती थी। वे न सिर्फ सुदर्शन व्यक्तित्व के धनी थे, बल्कि उनके पास सम्मोहित कर देने वाली आवाज थी। वे बोलते समय जितने प्रभावी दिखते थे, उनका लेखन भी उतना ही तार्किक और संदर्भित होता था। उनके ज्ञान का और विश्व राजनीति पर उनकी पकड़ का कोई सानी नहीं था। इस दौरान उन्होंने मुझसे रसरंग, पत्रिका के लिए कुछ चीजें लिखवाईं। वे नई पीढ़ी के लिए ऊर्जा के अजस्र स्रोत थे। आज जबकि वे हमारे बीच नहीं हैं, उनकी स्मृति मेरे लिए एक बड़ा संबल है।

बीजे की हमारी क्लास में कुल बीस लोग थे। बीस सीटें भी थीं, जिसमें उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ से आए हुए लोग थे। इनमें सुरेश केशरवानी, पुरुषोत्तम कुमार, शरद पंडया, अजीत कुमार, धनंजय प्रताप सिंह जैसे तमाम दोस्त मिले, जिनसे आज भी रिश्ता कायम है। बीजे की परीक्षा पास करने के बाद स्वदेश, भोपाल के तत्कालीन संपादक हरिमोहन शर्मा मुझे अपने साथ 'स्वदेश लेते गए। स्वदेश एक छोटा अखबार था और कर्मचारियों का अभाव यहां प्राय: बना रहता था। स्वदेश के मालिक और प्रधान संपादक राजेंद्र शर्मा एक अच्छे पत्रकार के रूप में ख्यातनाम हैं। उन्होंने और हरिमोहन जी ने मुझे यहां काम करने के स्वतंत्र और असीमित अवसर उपलब्ध कराए। बाद में कुछ दिनों के लिए यहां प्रमोद भारद्वाज भी आए, जो इन दिनों अमर उजाला, चंडीगढ़ के स्थानीय संपादक हैं। प्रमोद जी से भी मेरी खूब बनी। उन्होंने मुझे रिपोर्टिंग के कई नए फंडे बताए। जिस पर मैं बाद के दिनों में अमल इसलिए नहीं कर पाया, क्योंकि नौकरी देने वालों को मेरा रिपोर्टिंग करना पसंद नहीं आया, बल्कि उन्होंने मुझमें एक संपादक की योग्यताएं ज्यादा देखीं। एमजे की परीक्षा पास करने के बाद राजेंद्र शर्मा का कृपापात्र होने के नाते 1996 में मुझे स्वदेश, रायपुर का कार्यकारी संपादक बनाकर छत्तीसगढ़ भेज दिया गया। मेरे मित्र और शुभचिंतक मेरे इस फैसले के बहुत खिलाफ थे। कई तो मेरे रायपुर जाने को मेरे कैरियर का अंत भी घोषित कर चुके थे।

रायपुर : एक अलग स्वाद का शहर

रायपुर आना मेरे लिए आत्मिक और मानसिक रूप से बहुत राहत देने वाला साबित हुआ। छत्तीसगढ़ की फिजाओं में मैंने खुद को बहुत सहज पाया। जितना प्यार और आत्मीयता मुझे रायपुर में मिली, उसने मुझे बांध सा लिया। 1996 का रायपुर शायद दिल्ली से न दिखता रहा हो, लेकिन उसकी मिठास और उसका अपनापन याद आता है। आज का रायपुर जब 2008 की देहरी पर खड़े होकर देखता हूं, तो बहुत बदल गया है। शायद इस शहर का राजधानी बन जाना और राजपुत्रों का हमारे करीब आ जाना इस शहर की तासीर को धीरे-धीरे बदल रहा है। 1996 का रायपुर एक बड़े गांव का अहसास कराता था, जहां लगभग सारे परिचित से चेहरे दिखते थे। बहुत सारे पारा-मोहल्ले में बसा हुआ रायपुर एक अलग ही स्वाद का शहर दिखता था। लखनऊ, भोपाल के तेज जीवन ने थोड़ा थकाया-पकाया जरूर रहा होगा, मुझे लगा मैं अपनी 'बस्ती में आ गया हूं।

धीरे-धीरे सरकता हुआ शहर, आज के मुख्यमंत्री आवास तक सिमटा हुआ शहर, आज जिस तरह अपने आकार से, भीड़ से, गाड़ियों के प्रेशर हार्न से आतंकित करता है तो मुझे वह पुराना रायपुर बार-बार याद आता है। आज जिस बंगले में प्रदेश के मुख्यमंत्री रहते हैं, इसी बंगले में कभी कलेक्टर डीपी तिवारी रहा करते थे। उस समय यहां कमिश्नर रहे जेएल बोस हों या उस समय के एसपी संजय राणा, सभी याद आते हैं। अधिकारी भी तब आज के अधिकारियों जैसे नहीं थे। रायपुर सबको अपने जैसा बना लेता था। रायपुर का गुरुत्वाकर्षण अब मुझे कमजोर होता दिख रहा है। अब लोग रायपुर को अपने जैसा बनाने में लगे हैं। ब्राम्हणपारा में रहने वाले लोग हों या पुरानी बस्ती के बाशिंदे, वे इस बदलते शहर को मेरी तरह ही भौंचक निगाहों से देख रहे हैं। शहर में अचानक उग आए मेगा मॉल्स, बंद होते सिनेमाघर उनकी जगह लेता आईनाक्स, सड़क किनारे से गायब होते पेड़, गायब होती चिड़ियों की चहचहाहट, तालाब को सिकोड़ते हुए लोग, ढेर सी लालबत्तियां और उसमें गुम होते इंसान। रायपुर में रहते हुए रायपुर के समाज जीवन में सक्रिय अनेक साहित्यकारों, पत्रकारों से उस समय ही ऐसे रिश्ते बने, जो मुंबई जाकर भी खत्म नहीं हुए। शायद रिश्तों की यह डोर मुझे फिर से छत्तीसगढ़ खींच लाई।

इन मुंबई
1997 में मुंबई से नवभारत का प्रकाशन प्रारंभ हुआ। नवभारत, छत्तीसगढ़ का बहुत प्रतिष्ठित दैनिक है। उन दिनों बबन प्रसाद मिश्र, नवभारत, रायपुर के प्रबंध संपादक थे। उनकी कृपा और आशीर्वाद से मुझे नवभारत, नागपुर के संपादक और मालिक विनोद माहेश्वरी ने मुंबई संस्करण में काम करने का अवसर दिया। जब मैं मुंबई पहुंचा तो यहां भी मेरे कई दोस्त और सहयोगी पहले से ही मौजूद थे। इन दिनों स्टार न्यूज, दिल्ली में कार्यरत रघुवीर रिछारिया उस समय नवभारत, मुंबई में ही थे। वे स्टेशन पर मुझे लेने आए और संयोग ऐसा बना कि मुंबई के तीन साल हमने साथ-साथ ही गुजारे। यहां जिंदगी में गति तो बढ़ी पर उसने बहुत सारी उन चीजों को देखने और समझने का अवसर दिया, जिसे हम एक छोटे से शहर में रहते हुए महसूस नहीं कर पाते।

मुंबई देश का सबसे बड़ा शहर ही नहीं है, वह देश की आर्थिक धड़कनों का भी गवाह है। यहां लहराता हुआ समुद्र, अपने अनंत होने की और आपके अनंत हो सकने की संभावना का प्रतीक है। यह चुनौती देता हुआ दिखता है। समुद्र के किनारे घूमते हुए बिंदास युवा एक नई तरह की दुनिया से रूबरू कराते हैं। तेज भागती जिंदगी, लोकल ट्रेनों के समय के साथ तालमेल बिठाती हुई जिंदगी, फुटपाथ किनारे ग्राहक का इंतजार करती हुई महिलाएं, गेटवे पर अपने वैभव के साथ खड़ा होटल ताज और धारावी की लंबी झुग्गियां मुंबई के ऐसे न जाने कितने चित्र हैं, जो आंखों में आज भी कौंध जाते हैं। सपनों का शहर कहीं जाने वाली इस मुंबई में कितनों के सपने पूरे होते हैं यह तो नहीं पता, पर न जाने कितनों के सपने रोज दफन हो जाते हैं। यह किस्से हमें सुनने को मिलते रहते हैं। लोकल ट्रेन पर सवार भीड़ भरे डिब्बों से गिरकर रोजाना कितने लोग अपनी जिंदगी की सांस खो बैठते हैं इसका रिकार्ड शायद हमारे पास न हो, किंतु शेयर का उठना-गिरना जरूर दलाल स्ट्रीट पर खड़ी एक इमारत में दर्ज होता रहता है।

यहां देश के वरिष्ठतम पत्रकार और उन दिनों नवभारत टाइम्स के संपादक विश्वनाथ सचदेव से मुलाकात अब एक ऐसे रिश्ते में बदल गई है, जो उन्हें बार-बार छत्तीसगढ़ आने के लिए विवश करती रहती है। विश्वनाथ जी ने पत्रकारिता के अपने लंबे अनुभव और अपने जीवन की सहजता से मुझे बहुत कुछ सिखाया। उनके पास बैठकर मुझे यह हमेशा लगता रहा कि एक बड़ा व्यक्ति किस तरह अपने अनुभवों को अपनी अगली पीढ़ी को स्थानांतरित करता है। यहां नवभारत के समाचार संपादक के रूप में कार्यरत भूपेंद्र चतुर्वेदी का स्नेह भी मुझे निरंतर मिला। अब वे इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी कर्मठता, काम के प्रति उनका निरंतर उत्साह मुझे प्रेरित करता है। उसी दौरान नवभारत परिवार से जुड़े सर्वश्री कमल भुवनेश, अरविंद सिंह, केसर सिंह बिष्ट, अजय भट्टाचार्य, विमल मिश्र, सुधीर जोशी, विनीत चतुर्वेदी जैसे न जाने कितने दोस्त बने, जो आज भी जुड़े हुए हैं। नवभारत में काम करने के अनेक अवसर मिले। उससे काम में विविधता और आत्मविश्वास की ही वृध्दि हुई। वैचारिकी नाम का एक साप्ताहिक पृष्ठ हमने लगातार निकाला, जिसकी खासी चर्चा होती रही। फिर कई फीचर पत्रिकाओं का ए-4 आकार में प्रकाशन पत्रकारिता का एक अलग अनुभव रहा। इसके साथ-साथ सिटी डेस्क की वर्किंग का अनुभव भी यहां मिला। यह अनुभव आपस में इतने घुले-मिले हैं कि जिसने एक पूर्ण पत्रकार बनाने में मदद ही की।

मुंबई में रहने के दौरान ही वेब पत्रकारिता का दौर शुरू हुआ, जिसमें अनेक हिंदी वेबसाइट का भी काम प्रारंभ हुआ। वेबदुनिया, रेडिफ डाटकाम, इन्फोइंडिया डाटकाम जैसे अनेक वेबसाइट हिंदी में भी कार्य करती दिखने लगीं। हिंदी जगत के लिए यह एक नया अनुभव था। हमारे अनेक साथी इस नई बयार के साथ होते दिखे, किंतु मैं साहस न जुटा पाया। कमल भुवनेश के बहुत जोर देने पर मैंने इन्फोइंडिया डाटकाम में चार घंटे की पार्टटाइम नौकरी के लिए हामी भरी। जिसके लिए मुझे कंटेन्ट असिस्टेंट का पद दिया गया। वेब पत्रकारिता का अनुभव मेरे लिए एक अच्छा अवसर रहा, जहां मैंने वेब पत्रकारिता को विकास करते हुए देखा। यह दौर लंबा न चल सका, क्योंकि इसी दौरान मेरी शादी भी हुई और शादी के एक महीने बाद दैनिक भास्कर, बिलासपुर में समाचार संपादक के रूप में नियुक्ति हो गई और मुझे छत्तीसगढ़ के दूसरे नंबर के शहर बिलासपुर आ जाना पड़ा।

अथ श्री भास्कर कथा
दैनिक भास्कर, बिलासपुर आने की कथा भी रोचक है। यहां भी स्वदेश के संपादक रहे हरिमोहन शर्मा ही मेरे पुन: भास्कर में प्रवेश का कारण बने। वे उन दिनों हिसार भास्कर के संपादक थे। उन्होंने मुझे पानीपत में जगदीश शर्मा जी से मिलने के लिए कहा। मैं पानीपत पहुंचा और श्री शर्मा से मिला। श्री शर्मा इन दिनों भास्कर समूह में उपाध्यक्ष के रूप में कार्यरत हैं। उन्होंने अपने सद्व्यवहार और आत्मीयता से मुझे बहुत प्रभावित किया ही तथा साथ लेकर अगले दिन दिल्ली में भास्कर के प्रबंध संचालक सुधीर अग्रवाल से मुलाकात करवाई। श्री अग्रवाल हिंदी पत्रकारिता के उन नायकों में हैं, जिन्होंने अपनी कर्मठता से अपने समाचार पत्र को एक विशिष्ट पहचान दिलाई है। उनके प्रति मेरे मन में वैसे भी बहुत आदरणीय भाव है। मैं उन्हें पत्रकारिता के चंद गिने-चुने मालिकों में मानता हूं, जो हिन्दी में इतनी गंभीरता के साथ एक संपूर्ण अखबार निकालने का प्रयास कर रहे हैं। उनसे मिलना एक अच्छा अनुभव था। उन्होंने मुझसे जगहों के विकल्प के बारे में पूछा और चंडीगढ़, सीकर तथा छत्तीसगढ़ जैसे विकल्प सामने रखे। छत्तीसगढ़ से मेरा एक भावनात्मक रिश्ता पहले ही बन गया था। जाहिर तौर पर मैंने छत्तीसगढ़ का विकल्प ही सामने रखा। उन्होंने तत्काल ही बिलासपुर में समाचार संपादक के रूप में मेरी नियुक्ति कर दी। उनके काम करने का तरीका, चीजों को समझने की त्वरा देखते ही बनती है। वे वस्तुत: विलक्षण प्रतिभा के धनी हैं। हिंदी पत्रकारिता में हो रहे परिवर्तनों को जिस तेजी के साथ उन्होंने स्वीकार किया और अपने अखबार को भी आज के समय के साथ चलना सिखाया, उससे वे एक किंवदंती बन गए हैं।

भास्कर, बिलासपुर के अपने तीन साल के कार्यकाल में उनसे कुल दो बड़ी बैठकें ही हो पाईं, जिनमें एक भोपाल में और दूसरी बिलासपुर के श्यामा होटल में। आमतौर पर समाचार पत्र मालिकों के प्रति पत्रकारों की देखने की दृष्टि अलग होती है, किंतु मैंने यह पाया कि श्री अग्रवाल में संपादकीय मुद्दों की गहरी समझ है और वे अखबार को बहुत गंभीरता से लेने वाले मालिकों में से एक हैं। उनके साथ बैठकर बहुत कुछ सीखा और समझा जा सकता है। इस बीच भास्कर में काम करते हुए उनसे फोन और ई-मेल पर हल्की-फुल्की सलाहें, कभी प्रेम की भाषा में तो कभी चेतावनी की भाषा में मिलती रहीं किंतु इस कार्यकाल ने मुझे आज की पत्रकारिता के लायक बनाया। साथ ही साथ मेरी कई पूर्व मान्यताओं को बेमानी भी साबित किया।

बिलासपुर शहर में रहते हुए मुझे लोगों से जो अपनापा, प्यार और सद्भाव मिला वह मेरे जीवन की सबसे मूल्यवान पूंजी है। यह एक ऐसा शहर था, जिसने मुझे न सिर्फ काम के महत्वपूर्ण अवसर उपलब्ध कराए वरन रिश्तों की दृष्टि से भी बहुत संपन्न बना दिया। दिखने में यह शहर बहुत ठहरा हुआ सा और धीमी चाल चलने वाला शहर है किंतु यहां बहने वाली अरपा की तरह लोगों में भी अंत:सलिला बहती है। प्रतिवाद न करने के बावजूद लोग अपनी राय रखते हैं। साथ ही साथ धार्मिकता की भावना इस शहर में बहुत गहरी है। सही अर्थों में यह उस तरह का शहर नहीं है, जिस नाते शहर, शहर होते हैं। एक बड़े गांव सा सुख देता यह शहर आज भी अपने स्वभाव से उतना ही निर्मल और प्यारा है। शहर से लगी रतनपुर की धरती और यहां विराजी मां महामाया का आशीर्वाद सतत् आसपास के क्षेत्र पर बरसता दिखता है। यहां की राजनीति, साहित्य और पत्रकारिता सब कुछ एक-दूसरे आपस में इतने जुड़े हुए हैं कि बहुत द्वंद नजर नहीं आते।

हिंदी के यशस्वी कवि श्रीकांत वर्मा, प्रख्यात रंगकर्मी सत्यदेव दुबे का यह शहर इसलिए भी खास है कि इसी जिले के सुदूर पेंड्रा नामक स्थान से सन् 1901 में पं. माधवराव सप्रे ने छत्तीसगढ़ मित्र निकालकर पत्रकारिता की एक यशस्वी परंपरा की शुरुआत की। जड़ों में संस्कारों से लिपटा यह शहर अपने प्रेमपाश में बहुत जल्दी बांध लेता है। इसकी सादगी ही इसका सौंदर्य बन जाती है। यहां मुझे मित्रों का इतना बड़ा परिवार मिला कि बिलासपुर मेरे घर जैसा हो गया। यहां भास्कर के मेरे दो वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद मेरे वरिष्ठ अधिकारी के रूप में हिंदी के महत्वपूर्ण कवि गजानन माधव मुक्तिबोध के सुपुत्र दिवाकर मुक्तिबोध का आगमन हुआ। उन्होंने कभी भी अपनी वरिष्ठता की गरिष्ठता का अहसास मुझे नहीं होने दिया और एक छोटे भाई के रूप में हमेशा अपना स्नेह और संरक्षण मुझे प्रदान किया। मेरी पुस्तक 'मत पूछ हुआ क्या-क्या की भूमिका भी उन्होंने कृपापूर्वक लिखी। आज भी वे मेरे प्रति बेहद आत्मीय और वात्सल्य भरा व्यवहार रखते हैं।

भास्कर में मेरे सहयोगियों प्रवीण शुक्ला, सुशील पाठक, सुनील गुप्ता, विश्वेश ठाकरे, सूर्यकांत चतुर्वेदी, राजेश मुजुमदार, रविंद्र तैलंग, अशोक व्यास, संजय चंदेल, घनश्याम गुप्ता, हर्ष पांडेय, प्रतीक वासनिक, व्योमकेश त्रिवेदी, देवेश सिंह, अनिल रतेरिया, रविशंकर मिश्रा, योगेश मिश्रा जैसे तमाम मित्र आज भी एक परिवार की तरह जुड़े हुए हैं। इसके अलावा शहर में पं. श्यामलाल चतुर्वेदी, हरीश केडिया, डा. आरएसएल त्रिपाठी, बेनी प्रसाद गुप्ता, पं. नंदकिशोर शुक्ल जैसे समाज जीवन के सभी क्षेत्रों में इतने व्यापक संपर्क बने, जिनका नाम गिनाना मुझे संकट में तो डालेगा ही, इस लेख की पठनीयता को भी प्रभावित कर सकता है। इसी दौरान लगभग तीन साल गुरू घासीदास विश्वविद्यालय की पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष डा. गोपा बागची और उनके अत्यंत सरल और सौम्य पतिदेव डा. शाहिद अली की कृपा, प्रेरणा से विश्वविद्यालय में पत्रकारिता शिक्षण का अवसर भी मिला। इसमें अनेक विद्यार्थी तो इतने प्रिय हो गए, जैसे वे मेरे परिवार का ही हिस्सा हैं। जिनमें यशवंत गोहिल नई पीढ़ी के प्रखर पत्रकारों में हैं, जो मेरे साथ भास्कर और बाद में हरिभूमि में भी जुड़े रहे। इसी तरह अनुराधा आर्य, मधुमिता राव, नीलम शुक्ला, दीपिका राव, सुरेश पांडेय, शरद पांडेय, योगेश्वर शर्मा जैसे तमाम विद्यार्थी आज भी उसी भावना से मिलते हैं। बिलासपुर के तीन साल मेरे जीवन के बीते सालों पर भारी थे।

रायपुर : यादों की महक
यादों की यही महक लिए हुए मैं थोड़े समय के बाद छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से प्रकाशित होने वाले हरिभूमि से जुड़ गया। यह एक संयोग ही था कि मैं हरिभूमि के तब पंडरी स्थित कार्यालय में रमेश नैयर से मिलने के लिए आया हुआ था। वे छत्तीसगढ़ के अत्यंत सम्मानित पत्रकार और मुझे बहुत स्नेह करने वाले व्यक्ति हैं। स्वदेश, रायपुर में कार्य करते समय मेरा उनसे संपर्क आया था, जो उनकी आत्मीयता के नाते निरंतर सघन होता गया। श्री नैयर से इस मुलाकात के समय ही हिमांशु द्विवेदी से मेरी भेंट हुई। कैसे, क्या हुआ, लेकिन मैं मार्च, 2004 में हरिभूमि से जुड़ गया। इसके पूर्व हरिभूमि के संपादक के रूप में गिरीश मिश्र और एल.एन. शीतल कार्य कर चुके थे। अखबार को निकलते कुल डेढ़ साल हो गए थे और मैं तीसरा संपादक था। बावजूद इसके, अखबार बहुत अच्छे स्वरूप में निकल रहा था। हरिभूमि और हरिभूमि के पदाधिकारियों से जैसा रिश्ता बना कि वह बहुत आत्मीय होता चला गया। यहां पर आरंभिक दिनों में छत्तीसगढ़ के अत्यंत श्रेष्ठ पत्रकार स्वर्गीय रम्मू श्रीवास्तव के साथ काम करने का भी मौका मिला। कुछ ही समय बाद हिमांशु जी पूर्णकालिक तौर पर रोहतक से रायपुर आ गए। उनके साथ मेरा जिस तरह का और जैसा आत्मीय संबंध है, उसमें उनकी तारीफ को ब्याज निंदा ही कहा जाएगा। बावजूद इसके वे बेहद सहृदय, संवेदनशील और किसी भी असंभव कार्य को संभव कर दिखाने की क्षमता के प्रतीक हैं। उनमें ऊर्जा का एक अजस्र स्रोत है, जो उन्हें और उनके आसपास के वातावरण को हमेशा जीवंत तथा चैतन्य रखता है। एक संपादक और एक प्रबंधक के रूप में उनकी क्षमताएं अप्रतिम हैं। इसके साथ ही उनके पास एक बहुत बड़ा दिल है, जो अपने दोस्तों और परिजनों के लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए आमादा दिखता है।

इस बीच मेरा चयन कुशाभाऊ पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, रायपुर में रीडर के पद पर हो गया। सो मुझे लगभग छ: माह हरिभूमि से अलग होकर विश्वविद्यालय को अपनी सेवाएं देनी पड़ीं। विश्वविद्यालय में मेरे पुराने साथी डा. शाहिद अली और नृपेंद्र शर्मा मौजूद थे। छ: माह का यह समय एक पूर्णकालिक अध्यापक के रूप में ही गुजरा किंतु मित्रों के लगातार दबाव और तरह-तरह की प्रतिक्रियाओं से मन जल्दी ही बोर होने लगा। हिमांशुजी का स्नेहभरा दबाव हमेशा बना रहता था। उनके आदेश पर मुझे अंतत: विश्वविद्यालय की नौकरी छोड़कर फिर हरिभूमि में स्थानीय संपादक के पद पर आना पड़ा। इस दौरान हरिभूमि में काफी परिवर्तन हो चुके थे। कई पुराने साथी अखबार छोड़कर जा चुके थे और एक नई टीम बनाने की चुनौती सामने थी। इस दौर में भी नए-नए साथी जुड़े और कई तो ऐसे जिन्होंने हरिभूमि से ही अपने पत्रकारीय कैरियर की शुरुआत की। इस बीच धमतरी रोड पर हरिभूमि का नया भवन भी बना। वह बहुत सुदर्शन अखबार के रूप में ज्यादा रंगीन पन्नों के साथ निकलने लगा। शहर के बौध्दिक तबकों में भी उसकी खास पहचान बननी शुरू हो गई। इसका फायदा निश्चित रूप से हम सबको मिला। नगर के बुध्दिजीवी हरिभूमि के साथ अपना जुड़ाव महसूस करने लगे। वरिष्ठ पत्रकार बसंत कुमार तिवारी, बबन प्रसाद मिश्र, गिरीश पंकज, जयप्रकाश मानस, सुधीर शर्मा, डा. राजेंद्र सोनी, डा. मन्नूलाल यदु ऐसे न जाने कितने नाम हैं, जिनका योगदान और सहयोग निरंतर हरिभूमि को मिलता रहा। यह एक ऐसा परिवार बन रहा था, जो शब्दों के साथ जीना चाहता है। इस दौरान हरिभूमि ने अपार लोक स्वीकृति तो प्राप्त की ही, तकनीकी तौर पर भी खुद को सक्षम बनाया। इसका श्रेय निश्चित रूप से हरिभूमि के उच्च प्रबंधन को ही जाता है। अब जबकि प्रिंट मीडिया में 1994 में शुरू हुए अपने कैरियर की एक लंबी पारी खेलकर मैं इलेक्ट्रानिक मीडिया के क्षेत्र में प्रवेश कर रहा हूं तो यह मेरे जीवन का एक महत्वपूर्ण मोड़ ही कहा जाएगा। यह असुरक्षा में एक छलांग भी है और स्वयं को तौलने का एक अवसर भी। यह समय मुझे कैसे और कितना बदल पाएगा, इसे हम और आप मिलकर देखेंगे। तब तक इलेक्ट्रानिक मीडिया की भाषा में मैं एक ब्रेक ले लेता हूं।
(शुक्रवार, 20 जून, 2008)

13 टिप्‍पणियां:

  1. bilaspur me bitai wo pal jitne apke liy yaadgaar hai utane hi apke students ke liy bhi hai .khaskar wo 1 saal jo hamne bjmc me bitay . apse hi maine patrakarita ke kuch ayse gur shikhe jo shayad koi aur na sikha pata . yakeen maniye aap electronic media me bhi cha jayenge. apko is nai adhaya ke shuruat ke liy dheron badhai. NEELAM SHUKLA DEWANGAN, INDIA NEWS DELHI

    उत्तर देंहटाएं
  2. आलोक पुतुल23 जून 2008 को 6:27 am

    पूरी यात्रा पढ़ गया. इस आत्मक्थ्य को पढ़ना, असल में केवल आज की पत्रकारिता को ही पढ़ना नहीं है. यह सब कुछ एक पूरे समय को पढ़ने की तरह है, जो हम सब के हाथ से रेत की तरह फिसलता चला जा रहा है. “ थूको और भाग लो” के इस समय में आपने जिस विनम्रता के साथ अपने आत्मकथ्य को दर्ज किया है, वह इन दिनों दुर्लभ है. कहीं कोई रोना-धोना नहीं, कहीं कोई शिकायत नहीं. पत्रकारिता और असल में अपने समय की क्रूरता को लेकर भी नहीं...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. musafir ban kar apni yaatra likhne baite aksar log jaha kya likhu kya chodu me he samay gujar dete hai vahi aapne badi hi kushalta kam sabdo me apni ab tak ki yaatra ko likh daala aur un sabhi ka aabhaar bhi prakat kar diya jinse aapko pyaar aur sahyog mila ..achche logo ke saath achcha hi hota hai sanjay ji electronic media me bhi aapki dukan achchi sajegi..ameen
    Ajay Saxena, cartoonist, raipur

    उत्तर देंहटाएं
  4. जयराम दास23 जून 2008 को 8:52 am

    कितना प्यारा लगता है किसी फुरसत में अपने-अपनों को याद करना,गुजरे जहां जहां से वहाँ को सहेजना,संघर्ष के सारथी रहे अग्रजनो के प्रति आभार प्रदर्शन और ये सब करते हुए किसी अच्छे सम्पादक की तरह सार सार को गहि रहे,थोथहि देही उड़ाइ....यानी किसी भी तरह के बुरे अनुभवों को जगह नहीं देते हुए उन सभी के प्रति आभार प्रदर्शन करना जिन्होंने कभी भी स्नेह के दो बोल भी कहे हो .संजय जी की यादो के साथ कई शहरों की यात्रा करना आपको उस शहर मै बिताये गए पल की याद दिला देता है.संजय जी से मिलने से पहले बस्ती के बारे मे इतना ही जनता था के वहाँ के बस स्टैंड पर समोसे अच्छे मिलते हैं.....गोरखपुर से बस द्वारा अयोध्या जाते हुए दर्जनों बार उसका स्वाद ले चुका हू..बरसों बाद 2004 में संजय जी से रायपुर के स्टेशन पर श्रीकांत सर के साथ मिलते हुए मानो इस अनजाने शहर मे एक सहारा मिल गया हो.तबसे आज तक इन चार सालों मे माखनलाल विश्वविद्यालय मे उनके जूनियर होने की कितनी कीमत वसूल चुका हू,मत पूछिये.संजय जी का लिखा,पढना सदा ही अच्छा लगता है...और जिस प्रवाहपूर्ण ढंग से इन्होंने पत्रकारिता के एक युग का वर्णन किया है वह निश्चय ही हम जैसे लोगों के लिए प्रेरक है.हाँ भाभी जी की भूमिका के बारे मै कुछ ना लिखना थोड़ा अखर गया.आगे के किसी आत्माकथ्य का शायद इसके लिए इंतजार करना पड़ेगा.
    खैर,अब जबकि संजय जी अपनी कश्ती एक नए समुद्र मे डालने जा रहे है तो निश्चय ही वहाँ भी वे कोलंबस साबित होंगे,यह भरोसा है....और यही शुभकामना भी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाई संजय, बस्‍ती से लेकर रायपुर दूसरी बार पहुंचने तक की पूरी यात्रा पर लिखी यह रिपोर्ट बेहद अच्‍छी है। शब्‍द इतने सहज और सरल है कि एक सांस में पूरा संस्‍मरण पढ़े बगैर रहा नहीं जाता। आपकी लेखनी के हर पत्रकार कायल हैं इसमें कोई दो राय नहीं है। इस संस्‍मरण में अपने मित्रों और साथियों को दिल छूने वाले अंदाज मे जिस तरह याद किया उसके लिए धन्‍यवाद। यह जीवन यात्रा लंबी, लंबी और लंबी चलती रहे,इसी शुभकामना के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आगे की यात्रा ज़रा कठिन है मित्र, जिन रास्तों पर अड़े पत्थरों, चट्टानों और गंदे नाल हों वहाँ सतर्कता ज़रूरी होती है और आप इसे जानते भी हैं, फिर भी एक आलोचक मित्र की तरह ताक़ीद तो कराया ही जा सकता है ।

    आप का जो अंतःव्यक्तित्व है वह मेरी नज़रों में मुद्रित शब्दों का अधिक अनुरागी है । पर आपका मुखड़ा दृश्यावलियों की चकाचौंध के क़रीब । आजमाने में वैसे कोई बुराई नहीं है । फिर आप प्रयोगधर्मी भी तो ठहरे ।

    मैं किसी की तरह यह नहीं मानता कि समय क्रूर होता है । समय तो वही रहता है । समय को हम देख भी नहीं पाते । और देखते भी हैं तो अपनी बुद्धि, विवेक, सुख-दुख और निजी पूर्वाग्रह से । क्योंकि एक ही समय कईयों को कई तरह से दिखाई देता है । प्रेमचंद की कहानी तो याद ही होगा ना आपको , और हम किसी भी समय को वैसा बना सकते हैं जैसा हम चाहते हैं । दरअसल क्रूर हम ही होते हैं । समय नहीं । और अपने मुताबिक ही चयन करते रहते हैं । चयन का अधिकार या उसे लेकर जागृत विवेक ही सफलता की पहली सीढ़ी है ।

    मैं यह भी जानता हूँ और विश्वास भी करता हूँ कि आप अपने इर्द-गिर्द माहौल या पर्यावरण को ख़ुद भी अपने तईं अनुकूल बना लेते हैं पर मित्रवर, यह जो दृश्य की दुनिया है आखर दुनिया से कई मतलबों में भिन्न भी है । वहाँ आप ऐसा कुछ ज़रूर कर सकेंगे जो आम आदमी के लिए नयी संघर्ष शक्ति भी जुटा सके....

    फिलहाल आगे की तैयारी करें, अब तक भी कई पहाड़ों, झीलों, नहरों को पारके यहाँ तक पहुँचे हैं । पर अब ज़रा सम्भलके... जब कभी लौटें इस आखर-गाँव में तो लहुलूहान होकर नहीं और कुछ सौंदर्य लेकर... जिसका लाभ अक्षरवालों को भी मिले..

    आलोचक मित्र...

    उत्तर देंहटाएं
  8. sir namaskar aapki uplabdhi bhari yatra ko pada jarur. lekin aapko samjhhane me hame kafi mehnat karani hogi . vaise aapke uplabdhiyon ka koi ant nahi hai. lekin hamara durbhagay hai ki jab ham aap ke bare me janane ki shuruvat kar rahe the ki aap hamare se thodi dur per chale gaye .lekin hamari shubhkamnay hai ki aap din duguni rat chouguni unnati kare.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मालूम नही कि मैने यह यात्रा पढ़ी कहूं या इस यात्रा और आगे बढ़ता देख रहा हूं यह कहूं।

    पर यह जरुर कहूंगा कि आपने रायपुर ही नही छत्तीसगढ़ में कनिष्ठ पत्रकारों के लिए एक प्रतिमान स्थापित कर दिया है। युवा (तुर्क) संपादक के रूप में।

    कामना है कि आप इलेक्ट्रानिक मीडिया में भी ऐसे ही साबित होंगे।

    शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. zindgi ek ghari ke sman hai jo tuk tuk karake chalti rahti ....bas antar etna koi ek sire par baithkar bhagta rahta hai aur dusra dusre sire par baithkar zindgi ka maza leta .........
    sire chunna to aadmi ke upar nirbhar karta hai......

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपका अनुभव हम विद्यार्थियों के लिए बहुत शिक्षाप्रद है। धन्यवाद सर।

    उत्तर देंहटाएं